कविता - पर्यावरण दिवस -- खुशबू

पर्यावरण की बात निराली,
जगह जगह पर हरियाली।
प्रकृति का प्यारा है पर्यावरण
यहीं पर होता है
जीवन और मरण,
पर्यावरण हमें सब कुछ देता
बदले में कुछ नहीं है लेता।
पेड़ पौधों के बिना है
धरती खाली,
पेड़ पौधे लगाकर 
पर्यावरण के बनेंगे हम माली।
पर्यावरण को साफ रखेंगे 
प्रदूषण को ना माफ करेंगे।
हमें अपना कर्तव्य निभाना है
पर्यावरण को बचाना है।


खुशबू 
नौवीं वीं कक्षा की छात्रा 
गवर्नमेंट हाई स्कूल ठाकुरद्वारा 
कांगड़ा हिमाचल प्रदेश

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें