चिट्टा हिमाचल की एक कड़वी सच्चाई

*चिट्टा* हिमाचल की एक कड़वी सच्चाई है, आज इस जहर से समाज को बचाने वालेे अपने ही प्राण, परिवार व अस्तित्व को बचाने के लिए समाज, सरकार व अफसरशाही के मोहताज हो गए है।
यह एक अद्भुत, अविश्वसनीय, अकल्पनीय व रहस्यमयी नेटवर्क है, इसमें एक अनुमान के अनुसार निम्न स्तर पर नशा फैलाने वाले दरिंदे एक आम युवा को अपना कम से कम 70,000/- का ग्राहक समझते है, कल्पना कीजिए इनके आका जो प्रारम्भ में मुफ्त में यह जहर चखाते है वह हमारी नस्लों को मौत के दरवाजे पर पहुचा कर, नरक से बदतर जीवन जीने पर मजबूर करते है और मानसिक गुलाम बनाकर अपना करोड़ो/अरबों का धंधा चमकाते है यह और कोई नही हमारे समाज के वह सेवक है जो सेवा करते-करते आज करोड़पति बन चुके है। 
यदि आप खामोश रहेगें तो एक दिन बेजान खामोशी प्रदेश/देश में फैलनी स्वाभाविक है। ✍

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें