डॉ0 बी आर सक्‍सेना सेवानिवृत


राजकीय वरिष्‍ठ माध्‍यमिक पाठशाला निरमण्‍ड कुल्‍लू के प्राचार्य डॉ बी आर सक्‍सेना आज राजकीय सेवा से सेवानिवृत हो गये। डॉ सक्‍सेना प्रेरक व्‍यक्तित्‍व रहे है और जीवन संघर्ष पूर्ण। हिमशिक्षा को उन्‍होने सदैव प्रोत्‍साहित किया है। उन्‍होने हिमशिक्षा से अपने अनुभव साझा किऐ 

आखिर जिंदगी के 58 साल कैसे गुजरे मालूम ही नहीं हुआ........और 40 वर्ष सरकारी सेवा करने के उपरान्त आज सेवा निवृत हो गया........प्रिय मित्रो में आज आप लोगो के समक्ष अपने 58 वर्ष के टेढ़े मेढे रास्तों,कठिनयियो और उपलब्धियोंका जो अनुभव पाया है उसे बांटना चाहता हु!मेरा जन्म अवेरा(निरमंड) जिला कुल्लू में 25-12-1957 को श्रीमती सजू देवी एवं श्री महूरी राम जी के घर हुआ !अभी मेरी उम्र मुश्किल से 10 वर्ष थी और में चौथी कक्षा का छात्र था,मेरे पिताजी का देहांत हो गया!घर कि आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण मुझे चौथी से दसवीं कक्षा कि पढाई के बीच चार बार स्कूल छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा! फिर भी जैसे तैसे मेने 1975 में दसवीं कि परीक्षा 75% अंक लेकर उत्तीर्ण की!इसी दौरान मेने अपनी पढाई जारी रखने के लिए लोक निर्माण विभाग एवं वन विभाग में बेलदार के रूप में कार्य किया!1975-76 में मेने आईटीआई शमशी से हिंदी स्टेनोग्राफी का कोर्स किया लेकिन इसमें रोज़गार की उम्मीद ना होने के कारण मेने इसमें रुचि नही ली!1976 में मेरी नियुक्ति भारतीय डाक विभाग में क्लर्क के रूप में हुई और 1993 तक मेने इस विभाग में जिला किनौर और शिमला के भिन्न भिन्न डाकघरों में सेवाएँ दी!इसी बीच वर्ष 1979 मेरा विवाह श्रीमती संतोष सक्सेना(JBT)अध्यापिका के साथ हुआ व् बाद में वे रामपुर बुशहर से खंड शिक्षा अधिकारी के पद से सेवानिवृत हुए!

मेने डाक विभाग में रहते हुए एवं विवाह के उपरान्त प्राइवेट छात्र के रूप में उच्च शिक्षा प्राप्त करने का प्रयास किया तथा 1997 में हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से PhD की उपाधि प्राप्त की!वर्ष 1993 में मेने डाक विभाग से त्याग पत्र दिया तथा शिक्षा विभाग में प्रवक्ता इतिहास के रूप में नियुक्ति पायी!वर्ष 2010 में मैं प्रधानाचार्य के रूप में पदोन्नत हुआ तथा आज राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला निरमंड से प्रधानाचार्य के पद से सेवानिवृत होने का अवसर प्राप्त हुआ! इस अवसर पर डाक मंडल रामपुर बुशहर के अधीक्षक श्री सुरजीत सिंह,सहायक अधीक्षक Rekongpeo श्री सुधीर वर्मा .,Dr L R Chhati ,श्रीमती अमिता गुप्ता ,विद्यालय के सभी अध्यापक , smc प्रधान गुरुदर्शन शर्मा ,smc के सभी सदस्य ,अभिभावक वर्ग ,छात्र छात्राएं , सेवानिवृत प्रधानाचार्य केशव राम ,हेड मास्टर भीम वर्मा , योग राज ठाकुर , श्री कृषण ठाकुर , शकुन्तला ठाकुर सहित लगभग 700 लोग उपस्थित थे 1

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें