पांचवीं और आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों की परीक्षा प्रक्रिया


प्रदेश में पांचवीं और आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों की परीक्षा प्रक्रिया को बदलने की तैयारी शुरू हो गई है। एलीमेंटरी शिक्षा विभाग ने नई परीक्षा प्रणाली का प्रारूप तैयार किया है। नए प्रारूप में जिले की डाइट (जिला शिक्षक प्रशिक्षण केंद्र) की ओर से कॉमन प्रश्नपत्र तैयार किया जाएगा। इस प्रश्नपत्र को ही प्रदेश के सभी स्कूलों में पहुंचाया जाएगा।इन कक्षाओं के विद्यार्थियों की उत्तर पुस्तिका को उसी स्कूल के शिक्षक चैक नहीं कर सकेंगे। यह काम डाइट में प्रशिक्षण हासिल कर रहे प्रशिक्षुओं को दिया जाएगा।इसके अलावा दूसरे स्कूल के शिक्षकों को यह काम सौंपने की तैयारी चल रही है। विभाग शीघ्र ही नई प्रणाली का प्रारूप तैयार कर सरकार के पास मंजूरी के लिए भेजेगा।सरकार की हरी झंडी मिली तो आने वाले समय में दोनों ही कक्षाओं की परीक्षा प्रणाली में बदलाव होगा।हालांकि, राज्य सरकार ने पांचवीं और आठवीं कक्षा में दोबारा से बोर्ड परीक्षा को लागू करने का प्रस्ताव केंद्र के पास मंजूरी के लिए भेजा है। इसमें काफी समय लग सकता है।शिक्षा के अधिकार कानून में बदलाव किया जाना है। इसके लिए सरकार को मंजूरी मिलेगी या नहीं? यह भी अभी तक तय नहीं है। इसे देखते हुए विभाग ने फिलहाल परीक्षा प्रणाली को बदलने के लिए नया खाका तैयार किया है।इसके लिए सरकार को केंद्र से मंजूरी की जरूरत भी पड़ेगी और प्रणाली में बदलाव कर नए तरीके से परीक्षाएं ली जा सकेगी।निदेशक एलीमेंटरी शिक्षा हंसराज शर्मा ने माना कि विभाग पांचवीं और आठवीं कक्षा में नई परीक्षा प्रणाली लागू करने का प्रारूप बना रहा है। सरकार की मंजूरी के बाद इसे प्रदेश में लागू किया जा सकेगा।

1 टिप्पणी: