पैट नौ वर्ष के बाद भी रेगुलर नहीं

प्राथमिक सहायक अध्यापकों (पैट) ने प्राथमिक शिक्षक संघ (पीटीएफ) के साथ मिलकर एक बैनर तले अपने हकों के लिए संघर्ष करने का निर्णय लिया है। शिमला में रविवार को आयोजित बैठक में पैट ने पीटीएफ संघ के पदाधिकारियों को सम्मानित किया। बैठक में पैट के नियमितीकरण और ट्रांसफर पालिसी बनाए जाने को लेकर चर्चा की गई। संघ के प्रदेशाध्यक्ष लखवीर धीमान ने बताया कि पैट व ग्रामीण विद्या उपासकों की नियुक्ति एक ही पालिसी के तहत की गई थी। पूर्व सरकार ने ग्रामीण विद्या उपासकों को तो रेगुलर कर दिया, लेकिन पैट को नौ वर्ष से अधिक के कार्यकाल के बाद भी रेगुलर नहीं किया जा रहा है। इससे शिक्षक मानसिक रूप से परेशान हो गए हैं। यही नहीं पूर्व सरकार ने ग्रामीण विद्या उपासकों को रेगुलर करने से पहले ही अनुबंध जेबीटी का वेतनमान दे दिया था, लेकिन पैट को अब तक अनुबंध जेबीटी का वेतन नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने राज्य सरकार से ग्रामीण विद्या उपासकों की तर्ज पर बिना शिक्षक पात्रता परीक्षा की शर्त थोपे रेगुलर किए जाने की मांग की है। संघ के वरिष्ठ उपाध्यक्ष देवेंद्र मनकोटिया ने बताया कि आज के बाद पैट की लड़ाई पीटीएफ शिक्षक संघ के साथ मिलकर लड़ी जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें