हर स्कूल की छत पर लगेगा वाटर टैंक

प्रदेश के सभी स्कूलों की छत पर अब वाटर टैंक बनाए जाएंगे। इन टैंकों के पानी को अंडरग्राउंड पाइपों द्वारा सभी कमरों से जोड़ा जाएगा, ताकि कभी भी आग की घटना से निपटने के लिए यह योजना कारगर साबित हो सके। अग्निशमन विभाग के तहत इस योजना को हौजरहिल के नाम से जाना जाएगा। यही नहीं, जिस स्कूल में यह व्यवस्था नहीं होगी, उसकी मान्यता भी रद्द हो सकती है। इससे पूर्व हर स्कूल में अग्निशमन यंत्र स्थापित करने के निर्देश दिए गए थे, लेकिन अब उनमें कुछ तबदीली की गई है। स्कूल में अग्निशमन यंत्र के साथ-साथ हौजरहिल की व्यवस्था भी जरूरी कर दी गई है। यह निर्णय इसलिए लिया गया है कि पहले स्कूल का भवन एक मंजिला हुआ करते थे। अब सरकार ने सभी भवनों को पक्का करने तथा बहुमंजिल में तबदील कर दिया है। इसके तहत यह व्यवस्था की गई है। हौजरहिल आग लगने की घटनाआें पर रोक लगाने में विशेष रूप से सहायक सिद्ध माना जाता है। इसके तहत स्कूल की छत पर एक टैंक का निर्माण किया जाएगा। उक्त टैंक से भवन की हर दीवार के साथ सीधी पक्की पाइपें लगाई जाती हैं, इनमें जगह-जगह वाटर हाइडें्रट रखे जाते हैं, ताकि स्कूल में अग्निकांड की घटना घटने पर उक्त जल को समय पर इस्तेमाल किया जा सके। हौजरहिल की जांच का जिम्मा दमकल विभाग को सौंपा गया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें