प्रोत्साहन छात्रवृति योजना-2012

 प्रारंभिक शिक्षा विभाग ने प्रोत्साहन छात्रवृति योजना-2012 के लिए आवेदन की अंतिम तिथि बढ़ाकर 15 नवंबर कर दी है। उक्त छात्रवृति पांच किलोमीटर या इससे अधिक की दूरी तय कर स्कूल पहुंचने वाले प्रत्येक विद्यार्थियों को दी जाएंगी, लेकिन शिमला जिला में चल रहे स्कूलों के मुखिया पात्र छात्रों के नाम शिक्षा उप निदेशालय नहीं भेज रहे हैं। शिमला जिला में अब तक मात्र 100 स्कूलों ने ही प्रोत्साहन छात्रवृति के लिए विद्यार्थियों के नाम भेजे हैं। शिमला जिला के अधिकांश सरकारी स्कूलों के मुख्याध्यापक व प्रधानाचार्य पात्र छात्रों के नाम जिला शिक्षा उप निदेशालय नहीं भेज रहे हैं। यह देखते हुए स्कूलों को 15 नवंबर तक का अतिरिक्त समय दिया गया है। 15 नवंबर के बाद भी यदि कोई स्कूल पात्र छात्रों के नाम शिक्षा निदेशालय नहीं भेजते,तो संबधित स्कूल के शिक्षक इसके लिए जवाबदेह होंगे और उनके वेतन से छात्रों को उक्त छात्रवृति की राशि दी जाएंगी। यह छात्रवृति नवीं से 12वीं कक्षा तक के छात्रों को मिलेगी। उप निदेशक उच्च शिक्षा शिमला बलदेव भारद्वाज ने बताया कि प्रोत्साहन छात्रवृति अवकाश के 52 दिनों को छोड़कर वर्षभर दी जाएंगी। इसके लिए प्रत्येक छात्र को हर महीने कम से कम 80 फीसदी उपस्थिति दर्ज करानी होगी। प्रोत्साहन छात्रवृति 23 जुलाई 2011 से पूरे सत्र सामान्य, एससी, एसटी सभी समुदाय के छात्रों को दी जाएंगी। उन्होंने सभी स्कूलों के मुखियां को पात्र विद्यार्थियों के नाम शीघ्र विभाग को भेजने के निर्देश दिए है और कहा कि जिस स्कूल से पात्र छात्रों के नाम नहीं पहुंचेंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएंगी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें